Search
Library
Log in
Watch fullscreen
4 months ago

Sakat Chauth 2022: सकट चौथ का महत्व | Sakat Chauth Mahatava | Boldsky

Boldsky
Boldsky
सकट चौथ के दिन श्री गणेश की पूजा का खास महत्व होता है. गणपति को मोदक, लड्डू का भोग और दूर्वा अर्पित की जाती है. जब प्रभु की पूजा के समय गणेश स्तुति, गणेश चालीसाके साथ ही सकट चौथ व्रत बहुत ही शुभ माना जाता है,कहते हैं जो भक्त सकट चौथ का व्रत रखते हैं उनके सभी संकटों का निवारण होता है, इसलिए इसे संकटा चौथ भी कहा जाता है. मान्यता के अनुसार इस व्रत को संतान की सुरक्षा और परिवार की खुशहाली के विशेष रूप से महिलाओं के द्वारा रखा जाता है. इस दिन गणपति की पूजा करने से वह अनन्त फल को देते हैं.


Worship of Shri Ganesha has special significance on the day of Sakat Chauth. Modak, laddoos and durva are offered to Ganapati. When Ganesh praises, Ganesh Chalisa as well as Sakat Chauth fast are considered very auspicious at the time of worship of Lord,It is said that the devotees who observe the fast of Sakat Chauth, all their troubles are solved, hence it is also called Sankat Chauth. According to the belief, this fast is observed especially by women for the protection of children and prosperity of the family. By worshiping Ganapati on this day, he gives eternal fruit.

#Sakatchauth #Mahatava

Browse more videos

Browse more videos