Search
Library
Log in
Watch fullscreen
9 months ago

Karwa Chauth 2021: इस साल करवा चौथ पर बन रहा है विशेष संयोग, जानिए व्रत रखने की तारीख, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Dharm Guru
#KarwaChauth2021 #KarwaChauth2021KabHai #KarwaChauthVrat2021 #KarwaChauthVratdate2021 #KarwaChauthPujaMuhurat #RohiniNakshatra
#KarwaChauthVratKabHai #karwachauthkaisekiyajatahai #karwachauth #karwachauth2021 #karvachuth #karwachauth2021meinkabhaidate #karwachauth #karwachauth2021 #chauthvrat #करवाचौथपूजाविधि #करवाचौथ2021मेंकबहै

सुहागिन महिलाएं करवा चौथ (Karwa Chauth) व्रत का बेसब्री से इंतजार करती हैं और इस व्रत के लिए कई दिन पहले से तैयारी भी करती हैं. इस साल यह व्रत अक्‍टूबर महीने (October) के आखिरी हफ्ते में पड़ेगा.

पति की लंबी उम्र की कामना के साथ रखा जाने वाला करवा चौथ का व्रत (Karwa Chauth Vrat) हर साल कार्तिक महीने के कृष्‍ण पक्ष की चतुर्थी को रखा जाता है. इस साल यह व्रत 24 अक्‍टूबर को रखा जाएगा. इस दिन महिलाएं पूरे दिन निर्जला व्रत (Nirjala Vrat) रखती हैं और रात में चंद्रमा के दर्शन (Chandra Darshan) करने के बाद पूजा करके अपने व्रत खोलती हैं. मान्‍यता है कि ऐसा करने से वे हमेशा सुहागिन रहती हैं और उनकी मैरिड लाइफ खुशहाल रहती है. तो आइये जानते हैं की इस साल करवा चौथ पूजन का शुभ मुहूर्त (Karwa Chauth Puja Shubh Muhurat) क्‍या है और इसकी पूजा करने की विधि क्‍या है.

करवा चौथ 2021 पूजा का शुभ मुहूर्त

24 अक्टूबर, रविवार को सुबह 03.01 बजे से चतुर्थी तिथि शुरू होगी जो 25 अक्टूबर 2021 को सुबह 05.43 बजे तक रहेगी. इस दौरान करवा चौथ पूजा का शुभ मुहूर्त 24 अक्टूबर को शाम 5.43 से 6.59 तक रहेगा. इस साल करवा चौथ पर एक विशेष संयोग बन रहा है जो कि बेहद शुभफलदायी है. इस बार करवा चौथ का चांद रोहिणी नक्षत्र में निकलेगा, जो कि बेहद शुभ माना जाता है. चंद्र दर्शन रात को करीब 08.07 पर हो सकता है. इसके बाद ही व्रती महिलाओं को पारणा करना चाहिए.

ऐसे करें करवा चौथ का व्रत-पूजा

सुबह सूर्योदय से पहले उठकर स्‍नान करके सरगी खाएं और फिर भगवान की पूजा करके निर्जला व्रत रखने का संकल्‍प लें. शाम को शुभ मुहूर्त में भगवान की पूजा करें. इसके लिए मिट्टी की वेदी पर सभी देवताओं की स्थापना करें और करवा रखें. फिर विधि-विधान से पूजा करें. करवा चौथ की कथा पढ़ें. चंद्रमा निकलते ही चांद को छलनी से देखें, उसे अर्ध्‍य चढ़ाएं. इसके बाद पति के हाथ से पानी पीकर व्रत खोलें. साथ ही अपनी सास का आशीर्वाद लें.

Browse more videos

Browse more videos