last year

गरीब टीचर _ Gareeb Teacher _ Hindi Kahani _ Moral Stories _ Bedtime Stories _ Hindi Kahaniya_ Kahani

Best Buddies Stories
रामनगर रेलवे स्टेशन के पास वो बुढ़िया अक्सर दिखाई दे जाती थी कपड़ें कई जगह से फटे हुए और गंदे बाल भी उलझे हुए उसे देख ऐसा लगता था की वो कई दिन से नहाई भी नहीं है शारा दिन कुछ सोचती रहती अपने में ही कभी कभी बड़बड़ा देती थी सभी उसे पगली समझते थे कोइ कुछ दे दिया तो खा लिया नहीं तो खुद ही कूड़े के ढेर से निकाल कर कुछ भी उठा कर खा लेती थी कोइ नहीं जनता था की ये कौन और अधिक पूरी कहानी पढ़ने के लिए वीडियो लिंक पे क्लिक करे...
Video Llink: https://youtu.be/rACOEwQRjzk

Browse more videos

Browse more videos