Search
Library
Log in
Watch fullscreen
2 months ago|189 views

Basant Panchami 2021: सरस्वती पूजा के दिन पढ़ना चाहिए या नहीं | Boldsky

Boldsky
Boldsky
Basant Panchami 2021: Basant Panchami date has a very special place in Hindu tradition. The festival of Basant Panchami is celebrated every year on the fifth day of the Shukla Paksha of Magh month. This date also gets special importance because, Rituraj spring begins on this day. According to the belief, the worship of Maa Saraswati, the mother goddess of learning, is performed on Basant Panchami.day of Basant Panchami in the Hindu tradition, the idol of Maa Saraswati is installed and worshiped, after which the same idol is immersed on the next day according to the entire law. According to beliefs, there is a tradition of wearing yellow clothes on this day, worshiping mother Saraswati with turmeric and applying tilak of that turmeric. It is believed that by doing this, Goddess Saraswati gets immense grace. Saraswati Puja Ke Din Padhna Chahiye Ya Nahi.

Basant Panchami 2021: बसंत पंचमी की तिथि का हिंदू परंपरा में बेहद विशिष्ट स्थान है. माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को प्रत्येक वर्ष बसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाता है. इस तिथि का विशेष महत्व इसलिए भी हो जाता है क्योंकि, ऋतुराज बसंत की शुरुआत इसी दिन से होती है. मान्यता अनुसार, बसंत पंचमी के दिन विद्या की देवी मां सरस्वती (Maa Saraswati) का पूजन अर्चन किया जाता है.हिंदू परंपरा में बसंत पंचमी के दिन, मां सरस्वती की प्रतिमा स्थापित कर उनकी पूजा अर्चना की जाती है जिसके पश्चात अगले दिन उसी प्रतिमा का पूरे विधि-विधान अनुसार विसर्जन कर दिया जाता है. मान्यताओं के अनुसार इस दिन पीला वस्त्र धारण करने, हल्दी से मां सरस्वती की पूजा करने और उस हल्दी का तिलक लगाने की भी परंपरा है. माना गया है कि ऐसा करने से मां सरस्वती की अपार कृपा प्राप्त होती है. जानें सरस्वती पूजा के दिन पढ़ना चाहिए या नहीं ?

#SaraswatiPujaKeDinPadhnaChahiyeYaNahi

Browse more videos

Browse more videos