Search
Library
Log in
Watch fullscreen
6 months ago

India-China War: 1967 का युद्ध जिसमें भारत से मिले सबक को कभी नहीं भूल पाएगा चीन | वनइंडिया हिंदी

As reports of deaths of Indian soldiers in a violent faceoff on Ladakh border emerged, many took solace from the fact that no rounds were fired during the physical clash with the Chinese soldiers. While this certainly makes these deaths more brutal than being shot and killed, it also gives hope that an escalation to kinetic means – rifles, howitzers, rockets, missiles and fighter jets – can be avoided between the two nuclear neighbours.

6 सितंबर, 1967 को धक्कामुक्की की एक घटना का संज्ञान लेते हुए भारतीय सेना ने तनाव दूर करने के लिए नाथु ला से लेकर सेबू ला तक के दर्रे के बीच में तार बिछाने का फैसला किया. इसके बाद 20 अगस्त को चीनी सैनिकों ने हथियारों के साथ पॉजिशन ले ली। फिर 7 सितम्बर को चीनी कमांडर ने भारतीयों को तारें खींचने से रोका तो दोनों पक्षों में झड़प हो गई। इसमें दो चीनी सैनिक घायल हो गए। उसके बाद ने 11 सितम्बर 1967 को नाथुला स्थिति भारतीय चौकी पर हमला कर दिया। चीनियों ने मीडियम मशीन गनों से गोलियां बरसानी शुरू कर दी. भारतीय सैनिकों को शुरू में भारी नुकसान झेलना पड़ा, क्योंकि उन्हें चीन से ऐसे कदम का अंदेशा नहीं था.

#IndiaChinaTension #IndiaChinaWar1967 #India #China

Browse more videos

Browse more videos